लगातार थकान और कमजोरी से परेशान? इन छिपी बीमारियों को न करें नज़रअंदाज, कराएं जल्द जांच!

थकान तो कभी न कभी हर किसी को होती ही है। लेकिन अगर आप हर वक्त थका हुआ महसूस करते हैं और ये थकावट किसी काम के बिना भी दूर नहीं होती, तो ये किसी गंभीर बीमारी का भी संकेत हो सकता है। आइए जानते हैं ऐसी ही कुछ बीमारियों के बारे में जो आपको हमेशा थका हुआ महसूस करा सकती हैं:

  1. कमज़ोरी (एनीमिया): खून में हीमोग्लोबिन की कमी को एनीमिया कहते हैं। हीमोग्लोबिन शरीर को ऑक्सीजन पहुंचाने का काम करता है। इसकी कमी से शरीर को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिल पाता। इससे थकान, कमजोरी, सांस लेने में तकलीफ और चक्कर आना जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

  2. थायराइड की समस्याएं: थायराइड ग्रंथि शरीर के लिए जरूरी हार्मोन्स बनाती है। इसकी कमी या ज्यादा पैदावार दोनों ही थकान का कारण बन सकती हैं।

  • थायराइड कम होना (हाइपोथायरायडिज्म): इसमें ग्रंथि कम हार्मोन बनाती है, जिससे थकान, वजन बढ़ना, बदन दर्द और जल्दी सर्दी लगना हो सकता है।

  • थायराइड ज्यादा होना (हाइपरथायरायडिज्म): इसमें ग्रंथि ज्यादा हार्मोन बनाती है, जिससे थकान, वजन कम होना, घबराहट और नींद न आना हो सकता है।

  1. शुगर (डायबिटीज): शरीर में शुगर का लेवल बढ़ जाना ही डायबिटीज कहलाता है। इसमें शरीर शुगर का इस्तेमाल ठीक से नहीं कर पाता जिससे शरीर को एनर्जी नहीं मिल पाती। इससे थकान, पेशाब ज्यादा आना और प्यास लगना जैसी दिक्कतें हो सकती हैं।

  2. हमेशा थकान रहने का रोग (क्रोनिक फटीग सिंड्रोम – सीएफएस): ये एक जटिल बीमारी है जिससे बहुत ज्यादा थकान होती है। इसके साथ ही शरीर में दर्द, जोड़ों में दर्द, सिरदर्द और नींद न आने की भी समस्या हो सकती है।

  3. डिप्रेशन (अवसाद): ये एक मानसिक बीमारी है जो थकान के साथ-साथ उदासी, चिंता और ध्यान लगाने में परेशानी पैदा कर सकती है। इससे भूख में बदलाव, नींद में दिक्कत और आत्महत्या के ख्याल भी आ सकते हैं।

  4. नींद की कमी: अच्छी नींद न लेना थकान का सबसे आम कारण है। बड़ों को रोजाना 7-8 घंटे की नींद जरूरी है।

  5. तनाव: बहुत ज्यादा तनाव भी थकावट का कारण बन सकता है। इससे शरीर में जकड़न, सिरदर्द और पेट की समस्याएं भी हो सकती हैं।

  6. पोषण की कमी: विटामिन B12, आयरन और मैग्नीशियम जैसे जरूरी पोषक तत्वों की कमी भी थकान का कारण बन सकती है।

अगर आप हमेशा थका हुआ महसूस करते हैं, तो अपने डॉक्टर से जरूर बात करें। वो आपके लक्षणों के आधार पर जांच कर सकते हैं और आपको सही इलाज बता सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *