पुराने तकिये का इस्तेमाल कर रहे हैं? हो सकते हैं बीमार! जानिए कब बदलना चाहिए तकिया

कई लोग सालों-साल तक एक ही तकिये का इस्तेमाल करते हैं, ये सोचकर कि वो अभी भी ठीक है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि पुराना तकिया आपकी सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है? जी हाँ ये बात बिलकुल सच है , समय रहते तकिया न बदलने से कई दिक्कतें हो सकती हैं। आइये जानते हैं विस्तार से

समय रहते तकिया न बदलने से होने वाली समस्याएं:

  • गर्दन और कंधे में दर्द: पुराना तकिया आपकी गर्दन और कंधे को सही सपोर्ट नहीं दे पाता, जिससे दर्द और अकड़न हो सकती है।
  • सिरदर्द: गलत तकिया सिरदर्द का कारण बन सकता है, खासकर माइग्रेन के रोगियों में।
  • एलर्जी और दमा: पुराने तकियों में धूल, माइट्स और फफूंद जमा हो जाते हैं, जो एलर्जी और दमा के लक्षणों को बढ़ा सकते हैं।
  • त्वचा की समस्याएं: गंदे तकिये से मुंहासे और अन्य त्वचा की समस्याएं हो सकती हैं।
  • सांस लेने में तकलीफ: कुछ मामलों में, पुराना तकिया सांस लेने में तकलीफ पैदा कर सकता है, खासकर अगर आपको एलर्जी या अस्थमा है।

तो कब बदलना चाहिए तकिया?

  • हर 18-24 महीने में: तकिये को बदलना एक अच्छा विचार है, भले ही आपको लगे कि यह अभी भी ठीक है।
  • अगर आपको दर्द या तकलीफ हो: अगर आपको गर्दन, कंधे या सिर में दर्द या तकलीफ हो रही है, तो यह आपके तकिये को बदलने का समय है।
  • अगर तकिया गंदा या विकृत हो गया है: अगर आपके तकिये में धब्बे, दाग या फफूंद लग गया है, या इसका आकार बदल गया है, तो इसे तुरंत बदल दें।
  • अगर आपको एलर्जी या दमा है: यदि आपको एलर्जी या दमा है, तो हाइपोएलर्जेनिक तकिया चुनना और इसे हर 6 महीने में बदलना सबसे अच्छा है।

नया तकिया चुनते समय ध्यान रखने योग्य बातें:

  • अपनी सोने की स्थिति के अनुसार तकिया चुनें: पेट के बल सोने वालों को पतला तकिया चाहिए, पीठ के बल सोने वालों को मध्यम मोटाई का तकिया चाहिए, और करवट लेटने वालों को मोटा तकिया चाहिए।
  • सही सामग्री चुनें: मेमोरी फोम, लेटेक्स या बकव्हीट जैसे सपोर्टिव मटीरियल से बने तकिये चुनें।
  • अपने बजट पर विचार करें: तकिये की कीमतें कुछ सौ रुपये से लेकर कई हज़ार रुपये तक हो सकती हैं। अपनी आवश्यकताओं और बजट के अनुसार तकिया चुनें।

अन्य जरूरी टिप्स:

  • अपने तकिये को हवादार रखें: तकिये को नियमित रूप से धूप में सुखाएं और इसे हवादार जगह पर रखें।
  • अपने तकिये को धोएं: कुछ तकियों को मशीन में धोया जा सकता है, जबकि कुछ को हाथ से धोना पड़ता है। धोने के निर्देशों के लिए हमेशा निर्माता के लेबल की जांच करें।
  • अपने तकिये को ढकें: तकिये को धूल और माइट्स से बचाने के लिए तकिये के कवर का इस्तेमाल करें।
  • अपनी सेहत का ध्यान रखें और पुराना तकिया बदलकर एक अच्छी रात की नींद लें!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *